Breaking News

फीफा वल्र्ड कप में अपने मिशन को अंजाम देगा जाकिर नाईक

Getting your Trinity Audio player ready...

नई दिल्ली। अलकायदा जैसे आतंकी संगठनों को पोषित करने वाले कतर ने अब भारत के भगोड़े जाकिर नाइक को फुटबॉल विश्व कप में आमंत्रित किया है. जाकिर नाइक कतर पहुंच चुका है और इस्लाम के प्रचार में लगा है। कतर फीफा विश्व कप की मेजबानी करने वाला पहला मुस्लिम देश है। कतर ने फुटबॉल विश्व कप के लिए पानी की तरह पैसा खर्च किया है। विश्लेषकों का कहना है कि कतर फीफा विश्व कप का इस्तेमाल गैर-मुसलमानों के धर्मांतरण के लिए मिशन दवाह के लिए कर रहा है। जाकिर नाइक भी मिशन दवाह को पूरी दुनिया में जोर-शोर से फैला रहा है। ऐसे में कतर और जाकिर नाइक के एक साथ आने को देखकर विश्लेषक हैरान नहीं हैं.


अमेरिका स्थित एक प्रतिष्ठित संगठन मिडिल ईस्ट मीडिया रिसर्च इंस्टीट्यूट की रिपोर्ट के मुताबिक, कतर ने दवाह से संबंधित इस्लामिक धार्मिक व्याख्यान के लिए जाकिर नाइक को आमंत्रित किया है। दवाह एक इस्लामी प्रथा है जिसके तहत गैर-मुसलमानों को परिवर्तित किया जाता है और इस्लाम को अपनाने के लिए आमंत्रित किया जाता है। संगठन ने कहा कि फीफा विश्व कप के दौरान मिशन दवाह कतर का एक अघोषित लक्ष्य प्रतीत होता है। दरअसल, फुटबॉल देखने के लिए लाखों प्रशंसक पहुंच रहे हैं और कतर इसे धर्मांतरण के अवसर के रूप में उपयोग कर रहा है। जाकिर नाइक भारत में गैर-मुसलमानों के खिलाफ नफरत फैलाने और मनी लॉन्ड्रिंग के आरोप में वांछित है। जाकिर नाइक इस समय मलेशिया में शरण ले रहा है। जाकिर नाइक के कनाडा और ब्रिटेन में प्रवेश पर पहले से ही प्रतिबंध है।

कतर का शाही परिवार इस्लामिक चरमपंथ को दे रहा है बढ़ावा

इससे पहले साल 2019 में भी कतर के शासक शेख तमीम बिन हमद अल थानी ने दोहा में जहरीले जाकिर नाइक का निजी तौर पर स्वागत किया था। कतर के सरकारी खेल समाचार चैनल के एंकर फैसल अलहाजरी ने ट्वीट किया कि विश्व कप के बीच शेख जाकिर नाइक कतर पहुंचे हैं और पूरे टूर्नामेंट में कई धार्मिक व्याख्यान देंगे। जाकिर नाइक के कई वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं. एक अन्य वीडियो में नाइक कतर के शेखों के साथ डिनर करते नजर आ रहा है। जाकिर नाइक का कतर में आना किसी सरप्राइज के तौर पर नहीं देखा जा रहा है. ऐसा इसलिए है क्योंकि कतर का शाही परिवार और अल थानी पिछले कई दशकों में कट्टरपंथी मुसलमानों, जिहादी कमांडरों और तालिबान आतंकवादियों को संरक्षण देने के लिए जाने जाते हैं।

बन गया है मास्टर प्लान

यह कतर ही था जिसने खालिद शेख मोहम्मद को शरण दी थी, जिसने अमेरिका पर 9/11 के आतंकवादी हमले की साजिश रची थी। जाकिर नाइक का नाम कतर में पिछले कई सालों से गैर-मुसलमानों को इस्लाम में बदलने में बड़ी भूमिका निभाने के लिए जाना जाता है। इंटरनेट पर उपलब्ध 2016 के एक वीडियो में, ज़ाकिर नाइक क़तर की राजधानी दोहा में 4 गैर-मुसलमानों को इस्लाम अपनाने में मदद करता है। इसमें जाकिर नाइक कलमा का पाठ करवाता है। रिपोर्ट में कहा गया है कि कतर फीफा विश्व कप में मिशन दवाह के लिए बड़े पैमाने पर अभियान चलाने की योजना बना रहा है। कतर के अधिकारियों और सरकार द्वारा वित्त पोषित संगठनों ने दुनिया भर के फुटबॉल प्रशंसकों को इस्लाम का संदेश फैलाने के लिए कम से कम 2,000 स्वयंसेवकों की भर्ती की है। इसके अलावा हजारों की संख्या में किताबें, पोस्टर और पर्चे बांटे जाने हैं।

नाइक ने नार्वे में स्थापित की मस्जिद और दवाह केंद्र

कतर के पत्रकार इब्तेसम अल साद ने ट्वीट किया कि जाकिर नाइक और मिस्र के मौलवी शेख उमर अब्देलकाफी को कतर आना चाहिए और सर्वश्रेष्ठ धार्मिक मिशन को पूरा करना चाहिए। उन्होंने कहा कि कतर ने धार्मिक स्तर पर विश्व कप की सफलता के लिए खुद को एक लक्ष्य निर्धारित किया है। ये दोनों धर्म परिवर्तन के लिए जाने जाते हैं। जाकिर नाइक इन दिनों पूरी दुनिया में इस्लाम फैलाने में लगा हुआ है। साल 2021 में जब दुनिया कोरोना की चपेट में थी तो कुछ इस्लामिक देशों के नेताओं ने जाकिर नाइक की मदद से यूरोपीय देश नॉर्वे में एक बड़ी मस्जिद का निर्माण कराया और वहां एक दवाह सेंटर की स्थापना की। इसका मकसद नॉर्वे के लोगों का धर्म परिवर्तन कर उन्हें इस्लाम में शामिल करना है. उस समय जारी एक पोस्टर से पता चला कि इस आंदोलन के प्रभाव में 2,000 नॉर्वेजियन पहले ही मुसलमान बन गए थे।

जॉर्ज बुश को कहता है आतंकवादी

दवाह तब मुसीबत का सबब बन जाता है जब गैर-मुसलमान धर्म परिवर्तन से इनकार करते हैं। इसके बाद जिहादी समूह घोषणा करते हैं कि गैर-मुसलमानों को दूसरे दर्जे के नागरिकों का जीवन जीना चाहिए। वे सरकार में शामिल भी नहीं हो सकते। तालिबान शासन इसका एक क्रूर उदाहरण है। इससे पहले यह बताया गया था कि कतर में विश्व कप से ठीक पहले 558 लोगों ने इस्लाम धर्म अपना लिया था। रिपोर्ट में कहा गया है कि यह स्पष्ट है कि कतर की सरकार फीफा विश्व कप का इस्तेमाल दवाह आंदोलन को बढ़ाने के लिए कर रही है। धर्म परिवर्तन के कई वीडियो भी वायरल हो रहे हैं लेकिन स्वतंत्र रूप से उनकी पुष्टि नहीं हो पाई है। जाकिर नाइक जॉर्ज बुश को आतंकवादी कहता हैं और अल कायदा नेता ओसामा बिन लादेन को आतंकवादी नहीं मानता है।

Check Also

रैली निकालकर दिया मतदाता जागरूकता का संदेश

Getting your Trinity Audio player ready... लखनऊ/उन्नाव,(माॅडर्न ब्यूरोक्रेसी न्यूज)ः केंद्रीय संचार ब्यूरो, सूचना एवं प्रसारण …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *