Breaking News

बढ़ई महासभा ने भरी हुंकार, राजनीति में मिले अधिकार और सम्मान

लखनऊ। अखिल भारतीय बढ़ई महासभा राजनीति में हिस्सेदारी को लेकर आवाज बुलंद की है। महासभा राजनैतिक अधिकारों को लेकर समाज में जागरूकता लाने के मुहिम चलायेगी, जिसमें समाज के युवा व प्रबुद्ध वर्ग सम्मिलित होगें। देश की आजादी के बाद से आज तक किसी भी राजनैतिक पार्टी ने बढ़ई समाज के लोगों के बारे नहीं सोचा, राजनैतिक पार्टियों के लिए समाज सिर्फ एक वोट बैंक बन कर रह गया है। महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष विश्राम शर्मा ने ऐलान किया कि आगामी 2024 लोक सभा चुनाव में बढ़ई समाज उसी पार्टी को वोट करेगा जो समाज को आगे बढ़ाने की बात को अपने घोषणा पत्र में शामिल करेगी।
राजधानी के प्रेस क्लब में एक प्रेसवार्ता के दौरान अखिल भारतीय बढ़ई महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष विश्राम शर्मा ने कहा कि आगामी 04 सितंबर कोे लखनऊ में विशाल सम्मेलन का आयोजन जायेगा। सम्मेलन में देश भर से महासभा के पदाधिकारी सम्मिलित होंगे और अपनी विचार रखेंगे। उन्होंने कहा कि सम्मेलन के माध्यम से महासभा राजनीतिक अधिकार के लिए समाज के लोगों को जागरुक करने का कार्य करेगी। राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि यह समाज आजादी के बाद से आज तक राजनीतिक अधिकार नहीं ले पाया है। किसी भी राजनीतिक पार्टी के द्वारा इस समाज के लोगों को लोक सभा राज्य सभा विधान सभा विधान परिषद व किसी भी पद पर ना हीं मनोनीत किया है और ना ही उस जगह के योग्य समझा है। जबकि हम संख्या में उत्तर प्रदेश में 4 प्रतिशत और पूरे देश में 7 प्रतिशत के आसपास है। उन्होंने कहा कि इतनी संख्या के बावजूद यह समाज राजनीतिक भागीदारी नहीं ले पा रहा है। राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि इस समाज का पुश्तैनी कारोबार पतन की ओर जा रहा है ,इस समाज के युवा बेरोजगार हो रहे हैं, समाज के लोगों के सामने रोजी रोटी का संकट खड़ा हो गया है। बावजूद इसके किसी भी राजनैतिक पार्टी ने समाज के ओर ध्यान नहीं दिया, समाज को सिर्फ एक वोट बैंक की तरह प्रयोग किया। राष्ट्रीय अध्यक्ष ने ऐलान किया आगामी 2024 लोक सभा चुनाव में हम उसी पार्टी को वोट करेंगे जो हमें राजनीतिक अधिकार दिलाने का काम करेगी। प्रेस वार्ता के माध्यम से सरकार से बढई जाति को सत्ता में भागिदारी देने, आरा मशीन को बढई जाति के लिए लाईसेंस मुक्त करने, व फर्नीचर से सम्बंधित सरकारी कामों में 75 प्रतिशत बढई जाति के लिए आरक्षित करने, वंश परम्परागत, बढई जाति के पैत्रिक व्यवसाय को जीएसटी की परिधि से बाहर रखने, बढई विकास बोर्ड, बढ़ई आयोग गठित करने सहित 21 सुत्रिय मांगों का ज्ञापन प्रस्तुत किया गया। इस अवसर पर पूर्व विधायक सतीश गौतम,राष्ट्रीय उपाध्यक्ष विपिन शर्मा,राष्ट्रीय उपाध्यक्ष गया प्रसाद शमार्, राष्ट्रीय संगठन मंत्री आलोक शर्मा, प्रदेश उपाध्यक्ष पवन शर्मा, मध्यप्रदेश प्रभारी रविन्द्र विश्वकर्मा,प्रदेश अध्यक्ष मध्यप्रदेश संतोष विश्वकर्मा प्रदेश प्रवक्ता रामराज शर्मा, युवा प्रदेश अध्यक्ष मनोज शर्मा,सुनिता शर्मा, अशोक शर्मा संजय शर्मा ने भी अपने विचार व्यक्त किये। इस अवसर पर राधेश्याम शर्मा, शयामविहारी विश्वकर्मा, प्रदेश यूवा उपाध्यक्ष संदीप शर्मा, परशुराम शर्मा, प्रदेश महिला जिला अध्यक्ष ऊषा शर्मा, दिनेश शर्मा, सूर्यपति शर्मा, संजय शर्मा, कमल शर्मा, धर्मेंद्र शर्मा, भानु प्रताप शर्मा, रामेश्वर कुशवाहा, मनोरन्जन कुशवाहा, विनय शर्मा, दुर्गेश शर्मा, गुड्डू शर्मा, श्री राजेश शर्मा, रितेश शर्मा, प्रिन्स शर्मा, सुदामा शर्मा, नन्द लाल गुप्ता, नन्द लाल शर्मा सहित अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे।

Check Also

कांग्रेस की भारत जोड़ो न्याय यात्रा में शामिल होगें अखिलेश यादव

लखनऊ,(माॅडर्न ब्यूरोक्रेसी न्यूज)ः भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की तरफ से कल कांग्रेस और सपा के गठबंधन …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *