Breaking News

गणपति की पूजा में क्या करें और क्या न करें, जानें सबकुछ

Getting your Trinity Audio player ready...

लखनऊ। दु:खहर्ता और सुखकर्ता कहलाने वाले गणपति की पूजा के लिए चतुर्थी तिथि अत्यंत ही शुभ और फलदायी मानी गई है, लेकिन इस पावन तिथि का महत्व तब और बढ़ जाता है, जब यह भाद्रपद माह के शुक्लपक्ष में पड़ती है. धार्मिक मान्यता है कि इसी दिन गणपति का जन्म हुआ था. इस पावन तिथि पर देश-दुनिया में बसे हिंदू गणपति को अपने घर में लाकर विधि-विधान से स्थापित करते हैं और उनकी पूजा करते हैं. यदि आप भी अपने घर में गणपति को स्थापित करने जा रहे हैं तो आपको उनका आशीर्वाद पाने के लिए क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए, आइए इसे विस्तार से जानते हैं.

गणेश चतुर्थी तिथि पर न करें ये 5 काम

गणेश चतुर्थी पर अपने घर में भूलकर भी गणपति की आधी-अधूरी बनी या फिर खंडित मूर्ति की स्थापना या पूजा नहीं करना चाहिए.
गणेश चतुर्थी की पूजा में भूलकर भी तुलसी दल या केतकी के फूल का प्रयोग नहीं करना चाहिए. गणपति की पूजा में बासी या मुरझाए हुए फूल भी नहीं चढ़ाना चाहिए.
गणेश चतुर्थी के दिन व्रत एवं पूजन करने वाले व्यक्ति को तन-मन से पवित्र रहते हुए ब्रह्मचर्य का पालन करना चाहिए. इस दिन गणपति की पूजा एवं व्रत रखने वाले व्यक्ति को भूलकर भी शारीरिक संबंध नहीं बनाना चाहिए.
गणेश चतुर्थी के दिन गणपति को चढ़ाए हुए प्रसाद एवं फलाहार का सेवन करना चाहिए. गणपति की पूजा का पूरा फल पाने के लिए गणेश चतुर्थी पर भूलकर भी तामसिक चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए.
गणेश चतुर्थी वाले दिन व्यक्ति को न तो दिन में सोना चाहिए और न ही किसी को अपशब्द बोलना चाहिए. गणपति की कृपा पाने के लिए व्यक्ति को मन ही मन में गणेश मंत्र का जप करते रहना चाहिए.

गणेश चतुर्थी तिथि पर जरूर करें ये 5 काम

गणेश चतुर्थी के दिन गणपति को अपने घर के ईशान कोण यानि उत्तर-पूर्व दिशा में विधि-विधान से बिठाएं और इसी दिशा की ओर मुख करके पूजा भी करें.
गणपति को लाल रंग बहुत ज्यादा प्रिय है, इसलिए आज गणेश चतुर्थी की पूजा लाल रंग के वस्त्र के पहनकर करें और गणपति की पूजा में लाल रंग के पुष्प, फल, और लाल चंदन का प्रयोग करें.
जीवन में आ रही बाधाओं को दूर और मनचाहा वरदान पाने के लिए गणपति की पूजा में आप दूर्वा जरूर चढ़ाएं
यदि आप गणेश चतुर्थी पर अपने घर में गणपति बिठा रहे हैं तो उनकी समय पर पूजा एवं आरती करें. इसी प्रकार गणपति को दिन में 3 बार भोग लगाएं.
गणपति की पूजा का शीघ्र फल पाने के लिए आज उनका प्रिय भोग मोदक और मोतीचूर का लड्डू और केला फल जरूर चढ़ाएं.

(यहां दी गई जानकारियां धार्मिक आस्था और लोक मान्यताओं पर आधारित हैं, इसका कोई भी वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है. इसे सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर यहां प्रस्तुत किया गया है.)

Check Also

इस मंदिर में चलता है सोलह दिनों तक नवरात्र का त्यौहार

Getting your Trinity Audio player ready... नई दिल्ली। शारदीय नवरात्र शुरू हो चुके हैं, पूरा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *