Breaking News

गठबंधन तोड़ा तो अखिलेश वापस लिया गिफ्ट

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में इस समय भले ही माहौल चुनावी न हो, लेकिन मौसम के गर्म रहने के साथ-साथ राजनीतिक पारा भी हाई है। राज्यसभा चुनाव आराम से समाप्त हो चुका है। राज्यसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी ने तीन सीटों में से एक सीट आजम खान को साधने के लिए कपिल सिब्बल को उतारा। एक सीट पर राष्ट्रीय लोक दल के अध्यक्ष जयंत चौधरी को उम्मीदवार बनाया। तीसरी सीट पर जावेद अली खान को राज्यसभा भेजा। वहीं, 13 सीटों के लिए विधान परिषद चुनाव में सपा को मिलने वाली 4 सीटों में से उन्होंने किसी भी गठबंधन दल को एक भी सीट नहीं दी। आस लगाए बैठे महान दल और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी को निराशा हाथ लगी। हालांकि, सुभासपा अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर ने तो इस मसले पर कोई नाराजगी नहीं दिखाई है। लेकिन, महान दल ने सपा गठबंधन से अलग होने का ऐलान कर दिया। इसके बाद अखिलेश यादव की नाराजगी की खबरें सामने आई। अब महान दल के अध्यक्ष केशव देव मौर्य के फॉर्च्यूनर लौटाए जाने का मामला सामने आ रहा है।
यूपी चुनाव 2022 के पहले महान दल और समाजवादी पार्टी के बीच गठबंधन हुआ था। इस गठबंधन के जरिए सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ओबीसी वोट बैंक में अपनी पैठ मजबूत करने की कोशिश कर रहे थे। हालांकि, यूपी चुनाव में महान दल की ओर उचित हिस्सेदारी न मिलने का मामला सामने आया। माना जा रहा था कि अखिलेश यादव केशव देव मौर्य को विधान परिषद के जरिए उनकी राजनीतिक महत्वाकांक्षा को पूरी करेंगे, लेकिन उन्हें विधान परिषद नहीं भेजा गया। भाजपा से सपा में यूपी चुनाव से पहले आए स्वामी प्रसाद मौर्य को अखिलेश ने विधान परिषद भेज दिया। नाराज केशव ने अखिलेश के साथ साथ गठबंधन तोडऩे का ऐलान कर दिया। लेकिन, कहानी यहीं खत्म नहीं हुई।
केशव देव मौर्य के गठबंधन छोडऩे के ऐलान ने अखिलेश यादव को खासा नाराज कर दिया। यूपी चुनाव के पहले गठबंधन में आने के बाद अखिलेश यादव की ओर से केशव देव को एक फॉर्च्यूनर गिफ्ट की गई थी। उसे वापस मांग लिया गया। केशव देव मौर्य ने भी अखिलेश यादव को गिफ्ट किया हुआ फॉर्च्यूनर वापस कर दिया। इसके बाद से यह चर्चा काफी तेज हो गई है।
अखिलेश यादव की ओर से केशव देव मौर्या को यूपी चुनाव के समय में कैंपेनिंग के लिए फॉर्च्यूनर गाड़ी गिफ्ट की थी। लेकिन, अब दो दिन पहले जब केशव देव ने गठबंधन तोडऩे का ऐलान किया तो अखिलेश यादव को उनके सलाहकारों ने गाड़ी वापस लिए जाने की सलाह दी। इसके बाद अखिलेश के एक सलाहकार ने केशव देव को फोन करके फॉर्च्यूनर को वापस करने को कहा। केशव देव ने भी बिना कोई देर किए गाड़ी लौटा दी है। अब यह मामला यूपी के राजनीतिक गलियारे में खूब चर्चित हो रही है।

 

Check Also

दुग्ध संघों के सुदृढ़ीकरण के लिए 13.33 करोड़ रूपये जारी

लखनऊ,(माॅडर्न ब्यूरोक्रेसी न्यूज)। उत्तर प्रदेश सरकार ने प्रदेश में डेयरी विकास के लिए दुग्ध संघों …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *