Breaking News

ड्रग्स माफिया के खिलाफ मैदान में योगी की एएनटीएफ

Getting your Trinity Audio player ready...

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का बुलडोजर एक-एक करके माफियाओं के किले ध्वस्त कर रहा है। योगी ने जब से सूबे की सत्ता संभाली तभी से असमाजिक तत्वों और अपराधियों में उनका खौफ दिख रहा है। योगी ने जिस तरह से अन्डरवल्र्ड के खिलाफ बुलडोजर एक्शन चलाया है उससे माफिया भयभीत हैं। कई नामचीन माफिया जेल में बंद हैं और गलत तरीके से कमाई गई उनकी करोड़ों की आकूत संपत्ति पर कानून का बुलडोजर चल रहा है। सीएम योगी ने प्रदेश में गहरे तक पैठ जमा चुके अंडरवल्र्ड की जड़े खोखली करनी शुरू कर दी है। सबसे पहले तो जो अन्डरवल्र्ड के चेहरे लोगों में दहशत का पर्याय होते थे उनको उनकी सही जगह यानी कि जेल भेजा गया। इसके बाद माफिया की कमर तोडऩे के लिए उनकी अवैध संपत्तियों के खिलाफ सरकार ने एक्शन लिया, जिससे क्राइम बेल्ट को काफी हद क्रैक करने में पुलिस और प्रशासन को सफलता मिली। इतना ही नहीं सूबे में सांप्रदायिक हिंसा फैलाने वालों के खिलाफ भी योगी सरकार ने सख्त एक्शन लिया। योगी की अगुवाई में सूबे में अपराधियों पर लगातार शिकंजा कसता जा रहा है।

अब योगी के राडार पर ड्रग माफिया आ गए हैं। दंगाइयों और संगठित अपराध को कुचलने के बाद अब योगी का बुलडोजर ड्रग माफिया के किले को ध्वस्त करने को तैयार है। इसके लिए योगी सरकार ने अलग से एंटी नारकोटिक्स टास्क फोर्स (एएनटीएफ) का गठन किया है। यह फोर्स नशे के सौदागरों पर लगाम कसने का काम करेगी। इस फोर्स में चुनिंदा और तेजतर्रार अधिकारियों व पुलिसकर्मियों को रखा गया है, जो नशे के सौदागरों का नेटवर्क ध्वस्त करेंगे। एंटी नारकोटिक्स टास्क फोर्स (एएनटीएफ) के जोन/क्षेत्रीय स्तर पर नारकोटिक्स पुलिस थाना की स्थापना की जाएगी। पहले चरण में बाराबंकी और गाजीपुर में नारकोटिक्स थाना स्थापित किए जाएंगे। वहीं एंटी नारकोटिक्स टास्क फोर्स पूरे उत्तर प्रदेश में तीन रीजन ( वेस्ट, सेंट्रल व ईस्ट ) में विभाजित किया गया है। मुख्यालय स्तर पर एंटी नारकोटिक्स टास्क फोर्स के प्रभारी पुलिस उप महानिरीक्षक ( एएनटीएफ) होंगे। जिनके साथ पुलिस अधीक्षक ( एएनटीएफ) ऑपरेशन एवं पुलिस अधीक्षक ( एनएटीएफ) मुख्यालय नियुक्त रहेंगे। इसके साथ ही मुख्यालय स्तर पर अपर पुलिस अधीक्षक ऑपरेशन एवं अपर पुलिस अधीक्षक मुख्यालय और पुलिस उपाधीक्षक-ऑपरेशन एवं पुलिस उपाधीक्षक मुख्यालय नियुक्त होंगे।
तीनों रीजन ( वेस्ट, सेंट्रल और ईस्ट) के प्रभारी पुलिस उपाधीक्षक होंगे। वेस्ट रीजन के अन्तर्गत मेरठ, बरेली, आगरा, सेंट्रल रीजन के अन्तर्गत लखनऊ, कानपुर तथा ईस्ट रीजन के अन्तर्गत प्रयागराज, गोरखपुर व वाराणसी जोन आयेंगे। इन जोनल प्रभारियों को आवश्यक संशाधन भी उपलब्ध कराये जायेंगे।

माफिया गिरोहों के खिलाफ कर सकेंगे कार्रवाई

एंटी नारकोटिक्स टास्क फोर्स  को मादक पदार्थों के कारोबार में लिप्त अपराधियों, माफियाओं और गिरोहों के विरुद्ध कार्रवाई में गिरफ्तारी और विवेचना करने की समस्त शक्तियों प्राप्त होंगी। वह अपने कार्यक्षेत्र में किसी भी थाने में अपराधियों के विरुद्ध एफआईआर पंजीकृत कराते हुए विवेचना स्वयं ग्रहण कर सकेंगे।

मुख्यालय प्रभारी डीआईजी होंगे

मुख्यालय स्तर पर एंटी नारकोटिक्स टास्क फोर्स के प्रभारी पुलिस उप महानिरीक्षक (एएनटीएफ) होंगे। जिनके सहयोगार्थ पुलिस अधीक्षक (एएनटीएफ) ऑपरेशन एवं पुलिस अधीक्षक (एएनटीएफ) मुख्यालय नियुक्त रहेंगे। साथ ही मुख्यालय स्तर पर अपर पुलिस अधीक्षक ऑपरेशन, अपर पुलिस अधीक्षक मुख्यालय और पुलिस उपाधीक्षक आपरेशन एवं पुलिस उपाधीक्षक मुख्यालय नियुक्त होंगे।

क्या होंगी जिम्मेदारियां

1- एंटी नारकोटिक्स टास्क फोर्स का मुख्य दायित्व मादक पदार्थों के प्रवर्तन के आधार पर प्रभावी अंकुश लगाना होगा।
2- मादक पदार्थों की मांग को कम करने के लिए संबंंधिक एजेंसियों से समन्वय स्थापित करना।
3- मादक पदार्थों के सेवन को रोकने हेतु जन जागरूकता अभियान कियान्वित करना।
4- अन्य राज्यों से समन्वय स्थापित करना।
5- राज्य में हो रही वैध अफीम खेती से सम्बन्धित प्रक्रियाओं पर नजर रखना।
नारकोटिक्स का अवैध व्यापार करने वालों के विरुद्ध प्रभावी कार्यवाही कराना।
6- मादक पदार्थों की तस्करी में लिप्त सूचीबद्ध गैंगों के विरुद्ध प्रभावी कार्यवाही करना ।

नारकोटिक्स थाना स्थापित किए जाएंगे

पहले चरण में बाराबंकी और गाजीपुर में नारकोटिक्स थाना स्थापित किए जाएंगे। एंटी नारकोटिक्स टास्क फोर्स को पूरे उत्तर प्रदेश में तीन रीजन (वेस्ट, सेंट्रल व ईस्ट) में विभाजित किया गया है। मुख्यालय स्तर पर एंटी नारकोटिक्स टास्क फोर्स के प्रभारी पुलिस महानिरीक्षक (एएनटीएफ) होंगे, जिनके साथ पुलिस अधीक्षक (एएनटीएफ) ऑपरेशन एवं पुलिस अधीक्षक (एएनटीएफ) मुख्यालय में नियुक्त रहेंगे। मुख्यालय स्तर पर अपर पुलिस अधीक्षक ऑपरेशन एवं अपर पुलिस अधीक्षक मुख्यालय और पुलिस उपाधीक्षक-ऑपरेशन एवं पुलिस उपाधीक्षक मुख्यालय नियुक्त होंगे। तीनों रीजन (वेस्ट, सेंट्रल और ईस्ट) के प्रभारी पुलिस उपाधीक्षक होंगे। वेस्ट रीजन के तहत मेरठ, बरेली, आगरा, सेंट्रल रीजन के तहत लखनऊ, कानपुर तथा ईस्ट रीजन के तहत प्रयागराज, गोरखपुर व वाराणसी जोन आयेंगे। इन जोनल प्रभारियों को आवश्यक संसाधन भी उपलब्ध कराये जायेंगे।

क्या कहते हैं अधिकारी

अपर पुलिस महानिदेशक (अपराध) एमके बशाल ने बताया कि एएनटीएफ में अन्य विभाग के अधिकारियों को प्रतिनियुक्ति पर तैनात किया जाएगा। इसमें राज्य स्तर पर ड्रग कंट्रोल एजेंसियों के ड्रग इंस्पेक्टर, फार्मेसिस्ट, आबकारी विभाग के अधिकारियों को नियुक्त किया जाएगा। इसके साथ केंद्र के विभिन्न विभाग एनसीबी, सीबीएन, डीआरआई आदि से भी अधिकारियों को प्रतिनियुक्ति पर लिया जाएगा। एएनटीएफ के सदस्यों को प्रोत्साहित करने के लिए पुरस्कृत करने के साथ विशेष भत्ता दिया जायेगा।

Check Also

रैली निकालकर दिया मतदाता जागरूकता का संदेश

Getting your Trinity Audio player ready... लखनऊ/उन्नाव,(माॅडर्न ब्यूरोक्रेसी न्यूज)ः केंद्रीय संचार ब्यूरो, सूचना एवं प्रसारण …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *