Breaking News

इस कॉलेज में मनाया गया योग सप्ताह, बच्चों ने सीखे योग के गुर

लखनऊ। योग मनुष्य के शरीर, मन और आत्मा को उर्जा, ताकत और सौन्दर्य प्रदान करता हैं। योग को दिल से अपनाए….कुछ इसी अंदाज में युनिटी कॉलेज के सचिव नजमुल हसन रिज़वी ने छात्रों को योग के फायदे गिनाये, अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर युनिटी कॉलेज में सभी छात्रों,अध्यापकों व स्टाफ के सभी सदस्यों ने योग करके स्वास्थ्य के प्रति जागरूक रहने के रहने का प्रण लिया, इस मौके पर जिन बच्चों ने सप्ताह भर होने वाले इस आयोजन में किसी भी सेशन को मिस नहीं किया उनको प्रमाण पत्र दिए गए तो वहीं दूसरी ओर इस विशेष कार्यक्रम के माध्यम से बच्चों में जागरूकता लाने वाले और उनको योग के विषय में बताने वाले व योगासनों को करवाने वाले योग प्रशिक्षक रवि सिंह को भी प्रशस्ती पत्र प्रदान किया गया।
ठाकुर गंज स्थित युनिटी कॉलेज में बीते दिनों से योग सप्ताह का आयोजन वृहद स्तर पर किया जा रहा है, अन्तर्राराष्ट्रीय योग दिवस पर आज उसका समापन किया गया, इस कार्यक्रम का आयोजन यूपी नॉन ओलम्पिक एसोसिएशन व यूनिटी कॉल्ेाज के संयुक्त तत्वाधान में किया गया। जिसमें मुख्य अतिथि के तौर पर उप्र सरकार के आइएएस शाहिद मंजर अब्बास रिजवी व गेस्ट ऑफ ऑनर के तौर पर जनरल सेकेट्री यूपी नॉन ओलम्पिंक एसोसिएशन ए.के. सक्सेना व जोनल सेकेट्री योगेन्द्र चौधरी ने शिरकत की। योग प्रशिक्षक रवि सिंह ने बताया कि करीब एक सप्ताह चलने वाले योग शिविर में बच्चों को शुरूवात में वार्म अप, सूर्य नमस्कार जैसे शुरूवाती आसन सिखाए गये, फिर धीरे धीरे कई आसन सिखाए, सप्ताह भर के अंदर बच्चों में योग के प्रति काफी उत्साह देखा गया,व बच्चों ने भी बेहतरीन योग किया। इस अवसर पर कार्यक्रम के मुख्य अतिथि आइएएस शाहिद मंजर अब्बास रिजवी ने कहा कि योग तीन चीजों से मिलकर बना है, शारीरिक, मानसिक व आत्मिक। योग का मतलब ईश्वर से सीधा संबध, इसलिए मनुष्य के लिए योग बहुत महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि योग अपने अद्भुत स्वास्थ्य लाभ के लिए जाना जाता है।

वहीं कॉलेज के सचिव नजमुल हसन रिज़वी ने कहा कि सप्ताह भर चलने वाले इस योग शिविर का मूल उद्देश्य छात्रों को मानसिक और शारीरिक रूप से मजबूत बनाना है, क्योकि स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मस्तिष्क निवास करता है। श्री नजमुल ने कहा कि कॉल्ेाज प्रबंधन की यह कोशिश रहती है कि उनके कॉलेज में पढऩे वाले प्रत्येक छात्र शारीरिक और मानसिक रूप से फिट रहे इसके लिए इनडोर व आउटडोर गेम कराये जाते हैं। उन्होंने कहा कि देश के प्रधानमंत्री की योग को लेकर छेड़ी गयी मुहिम अब रंग ला रही है, जिसके सकारात्मक परिणाम भी देखने को मिल रहे हैं। उन्होंने अपील की है कि, योग दिखावे के लिए न करके उसे आत्मसात करें। उन्होंने कहा कि यह एक ऐसी क्रिया है जिसमें बहुत ज्यादा जगह की जरूरत नहीं पड़ती, घर के एक कोने में भी इसे आसानी से किया जा सकता है, और आप योग के माध्यम से अपने शरीर और मन, मस्तिष्क को स्वथ्य रख सकते हैं।

क्यों मनाया जाता है योग दिवस

योग मानव के शारीरिक और मानसिक दोनों स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है। यह एक अमूल्य प्राचीन प्रथा है। यूं तो योग की महत्व किसी से छुपा नहीं है लेकिन इसका महत्व तब बढ़ गया जब कोरोना के कारण सभी घरों में बैठकर तनाव से ग्रस्त हो गए थे और लोगों की आवाजाही बंद हो गई थी। ऐसे मे मन को शांत रखने और शरीर को दुरुस्त रखने में योग ने ही मदद की थी। जीवन में योग के इसी महत्व को दर्शाने के लिए पूरा विश्व इंटरनेशनल योगा डे मनाता है। इंटरनेशनल योगा डे देश भर में योग से होने वाले फायदों के विषय में जागरूकता फैलाने के लिए 21 जून को मनाया जाता है। इस साल यह इंटरनेशनल योगा डे का 8वां संस्करण है। इंटरनेशनल योगा डे 2022 के प्रदर्शन का मुख्य कार्यक्रम कर्नाटक के मैसूर में हुआ जिसका नेतृत्व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया।

क्या है इस दिन का इतिहास

इंटरनेशनल योगा डे को वर्ल्ड योगा डे भी कहा जाता है। पहली बार यह 21 जून 2015 को मनाया गया था। इसकी नींव भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 27 सितंबर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा में योग से संबंधित एक प्रभावशाली भाषण के साथ रखी गई थी। उसी के बाद इसे 21 पर जून इसे इंटरनेशनल योगा डे घोषित किया गया था। इसके साथ संयुक्त राज्य अमेरिका में 21 जून को इंटरनेशनल योगा डे मनाने के प्रस्ताव को 193 सदस्यों ने 11 दिसंबर 2014 को मंजूरी दी थी।हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी इंटरनेशनल योगा डे के लिए एक थीम रखी गया है। 2022 का थीम है Yoga for Humanity इसके पहले पिछले वर्ष योगा डे का थीम था Yoga for well-being
निश्चित ही योग पूरी दुनिया में स्वास्थ्य को चुनौती देने वाली बीमारियों को कम करने में मदद करता है। यह एक प्रैक्टिस है जो लोगों को एक दूसरे से जोड़ता है। साथ ही ध्यान का अभ्यास करने में मदद करता है और तनाव से राहत दिलाता है। योग स्वास्थ्य की सुरक्षा और सतत स्वास्थ्य विकास के बीच एक कड़ी प्रदान करता है। इसलिए हमें नियमित रूप से योग का अभ्यास करना चाहिए और इसे अपने जीवन का हिस्सा बनाना चाहिए।

 

Check Also

बोर्ड परीक्षा की तैयारी में अगर लगे व्याधान, तो डायल करें 112 और पायें समाधान

लखनऊ,(माॅडर्न ब्यूरोक्रेसी न्यूज)ः यूपी बोर्ड की परीक्षाओं की तैयारी में जुटे विद्यार्थियों को पढ़ने में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *