Breaking News

क्या है ममता दीदी का आगे का गेम प्लान

Getting your Trinity Audio player ready...

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने राष्ट्रपति चुनाव को लेकर पहल की और पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा विपक्ष के उम्मीदवार बने, लेकिन ममता बनर्जी की दुविधा तब शुरू हुई जब एनडीए ने झारखंड की पूर्व राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू को उम्मीदवार बनाया। ममता बनर्जी ने संकेत दिया कि द्रौपदी मुर्मू का नाम सर्वसम्मति से चुना जा सकता था, लेकिन अब ममता बनर्जी की दुविधा फिर से शुरू हो गई है जब एनडीए ने बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ को उपराष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाया है। टीएमसी सांसद सुदीप बंद्योपाध्याय ने आज केंद्र सरकार द्वारा बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में भाग लिया, लेकिन शरद पवार के नेतृत्व में विपक्षी दलों की बैठक से अनुपस्थित रहे। विपक्षी दलों ने ममता बनर्जी की सहमति के बिना मार्गरेट अल्वा को मैदान में उतारा है.

मीडिया में आ रही खबरों के मुताबिक तृणमूल कांग्रेस के एक वरिष्ठ सूत्र का कहना है कि ममता बनर्जी को विपक्षी दलों की बैठक के लिए नहीं बुलाया गया था, बल्कि लोकसभा नेता सुदीप बंद्योपाध्याय को बुलाया गया था. इस वजह से ममता बनर्जी नाराज बताई गईं और उन्होंने पार्टी सांसद को बैठक में शामिल होने से मना कर दिया.
भाकपा नेता डी राजा ने कहा कि बैठक के दौरान विपक्षी पार्टी के नेताओं ने ममता बनर्जी से संपर्क करने की कोशिश की, लेकिन बताया गया कि ममता बनर्जी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग पर थीं. इस वजह से उनसे बातचीत नहीं हो पाई, लेकिन उम्मीद है कि टीएमसी मार्गरेट अल्वा का समर्थन करेगी। पार्टी के वरिष्ठ नेता का कहना है कि ममता बनर्जी ने 21 जुलाई को पार्टी सांसदों की बैठक बुलाई है. इस बैठक में उपाध्यक्ष पद के उम्मीदवार को लेकर चर्चा होगी और पार्टी सांसदों से बातचीत के बाद ही कोई फैसला लिया जाएगा.

Check Also

लोकसभा चुनाव को लेकर बसपा सुप्रीमो मायावती ने कही यह बड़ी बात

Getting your Trinity Audio player ready... लखनऊ, (माॅडर्न ब्यूरोक्रेसी न्यूज)ः बहुजन समाज पार्टी (बी.एस.पी.) की …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *