Breaking News

एनकाउंटर में माहिर इस आईपीएस को पड़ा अटैक

Getting your Trinity Audio player ready...

लखनऊ। राजधानी के 112 मुख्यालय में तैनात व एनकाउंटर स्पेशलिस्ट के तौर पर प्रसिद्ध आईपीएस अफसर अजय पाल शर्मा की अचानक तबियत खराब होने से उन्हें अस्पताल में एडमिट कराया गया। वह मेदातां अस्पताल के चिकित्सकों की संघन निगरानी में है, अस्पताल प्रशासन के अनुसार श्री शर्मा को हार्ट अटैक पड़ा था, जिसके कारण उनको सीने में तेज दर्द उठा था।
प्राप्त जानकारी के मुताबिक अजय पाल शर्मा (37) को उस समय अचानक सीने में तेज दर्द उठा जब वह रूटीन के कार्यो को निपटा रहे थे, अचानक खराब हुयी तबियत के बाद उन्हें मेदांता अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां चिकित्सको की टीम ने जांच के बाद उनकी एंजियोग्राफी की, फिलहाल श्री शर्मा की हालत खतरे से बाहर बतायी जा रही है। महकमे में चर्चा थी कि उनको हल्की फुल्की दिक्कतें वह काफी दिनों बनी हुयी थी, पर काम में व्यस्तता के चलते वह खुद पर ध्यान नहीं दे पा रहे थे।

यूपी के सिंघम हैं आईपीएस अजय पाल शर्मा

आईपीएस अजय पाल शर्मा यूपी कैडर में 2011 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं। वह मूलरूप से पंजाब के लुधियाना के निवासी हैं। श्री शर्मा ने कई एनकाउंटर किए, जिसके बाद वह चर्चा में आ गये, श्री शर्मा ने जून, 2019 में रामपुर में एक 6 साल की बच्ची से रेप और हत्या के आरोपी नाजिल को एनकाउंटर किया था। श्री शर्मा की पहली पोस्टिंग यूपी के सहारनपुर में हुई थी। योगी सरकार के पहले कार्यकाल में उन्हें नोएडा में पोस्टिंग दी गई। अजय पाल की ज्यादातर पोस्टिंग पश्चिमी यूपी में रही। वह अपराध नियंत्रण में खासे जानकार माने जाते हैं। इसीलिए सीएम योगी ने कानपुर में नमाज के बाद हुए उपद्रव की जांच के लिए भी कानपुर भेजा था। कानपुर से पहले लखीमपुर खीरी में हुए किसान आंदोलन के बाद सरकार ने अजय पाल शर्मा को ही कमान सौंपी थी। अजय पाल शर्मा तेज तर्रार व साफ-सुथरी छवि के अधिकारी हैं। अक्टूबर 2021 में लखीमपुर खीरी कांड को शांत करवाने के लिए योगी सरकार ने अजय पाल शर्मा को भेजा था। राकेश टिकैत के पश्चिम यूपी क्षेत्र में पहले तैनात रहे कई अधिकारियों के साथ अच्छे संबंधों की बात सामने आई थी। बताया जाता है अजय पाल शर्मा जब नोएडा में एसएसपी थे तब से उनकी राकेश टिकैत के साथ अच्छी बनती है। ऐसे में उन्होंने मोर्चा संभाला। टिकैत बीते साल 3 अक्टूबर की रात खीरी पहुंचे। अजय पाल शर्मा को भी यहां भेजा गया। बताया जा रहा है कि राकेश टिकैत और सरकार के बीच मध्यस्थ की भूमिका अजय पाल शर्मा ने भी निभाई थी।

Check Also

वृहद वृक्षारोपण अभियान के लिए विभागों ने कसी कमर

Getting your Trinity Audio player ready... लखनऊ,(माॅडर्न ब्यूरोक्रेसी न्यूज)ः प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *