Breaking News

देश में आया मंकीपॉक्स का पहला केस

Getting your Trinity Audio player ready...

नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच मंकीपॉक्स वायरस का केस भी आ गया है. यूएई से केरल लौटे एक व्यक्ति में इस वायरस के लक्षण मिले थे. जो जांच में मंकीपॉक्स से संक्रमित मिला है. मरीज को अस्पताल में भर्ती कराया गया है. उसके संपर्क में आए लोगों को भी आइसोलेट किया गया है. विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक, इस साल मंकीपॉक्स 71 से ज्यादा देशों में फैल चुका और इसके 7651 केस आ चुके हैं. वायरस के बढ़ते खतरे को देखते हुए वर्ल्ड हेल्थ नेटवर्क इसे महामारी घोषित कर चुका है.अब भारत में भी इसका पहला केस आ चुका है. ऐसे में इस वायरस से कितना खतरा हो सकता है और बचाव के लिए क्या करना चाहिए? ये जानने के लिए कोविड19 ने महामारी विशेषज्ञ से बातचीत की है.
सफदरजंग हॉस्पिटल के मेडिसिन डिपार्टमेंट के एचओडी प्रोफेसर डॉ. जुगल किशोर ने बताया कि मंकीपॉक्स वायरस का संक्रमण तेजी से भी हो सकता है. क्योंकि ये एक से दूसरे व्यक्ति में फैलता है. स्किन टू स्किन टच और संक्रमित स्तह के संपर्क में आने से भी यह फैल सकता है. इस वायरस से उन लोगों को ज्यादा खतरा है. जिनको स्मॉल पॉक्स का टीका नहीं लगा है. ऐसे में 40 से कम उम्र के लोगों को विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है. क्योंकि अगर एक व्यक्ति इस वायरस से संक्रमति हुआ तो दूसरे में भी ये फैल सकता है.
भारत जैसे बड़े देश में इससे खतरा हो सकता है. हालांकि राहत की बात यह है कि देश में स्मॉल पॉक्स वैक्सीन की प्रोडक्शन आसानी से हो सकती है. इसलिए अगर ये वायरस फैलता है तो स्मॉल पॉक्स की वैक्सीन से टीकाकरण करना होगा. एंटीवायरल दवाओं से भी इसके लक्षणों को काबू में किया जा सकता है.

21 दिन तक दिख सकते हैं इस वायरस के लक्षण

मंकीपॉक्स से संक्रमित होने के बाद पांच दिन में इसके लक्षण दिखने लगते हैं. शुरुआत में बुखार और सिरदर्द होता है. इसके बाद चेहरे और शरीर पर दाने निकल जाते हैं. कई मरीजों में इस वायरस के लक्षण 21 दिन तक भी रह सकते हैं. इसमें 90 फीसदी मामलों में चेहरे में दाने निकलते हैं. इस वायरस के लक्षण चेचक की तरह ही होते हैं.

क्या कोरोना की तरह होगा खतरा

एक्सपर्ट का कहना है कि मंकीपॉक्स इस बार उन देशों में भी फैल रहा है, जहां पहले इसके केस नहीं आए थे. इसकी रफ्तार कोरोना की तरह तेज नहीं है, लेकिन जिस हिसाब से ये धीरे-धीरे पूरी दुनिया में फैल रहा है. ये खतरे का संकेत हैं. हालांकि इस वायरस से वैसा खतरा होने की आशंका नहीं है जो कोरोना से हुआ था. क्योंकि इसके लिए स्मॉल पॉक्स की वैक्सीन मौजूद है. साथ ही मंकीपॉक्स कोरोना की तरह सांस के जरिए भी नहीं फैलता है.

ये होते हैं मंकीपॉक्स के लक्षण

बुखार

शरीर और चेहरे पर दाने निकलना

मांसपेशियों में दर्द

सिरदर्द

इन बातों का रखें ध्यान

फ्लू के लक्षण वाले व्यक्ति के संपर्क में न आए

अगर बुखार हो रहा है और दवा लेने के बाद भी नहीं उतर रहा तो डॉक्टर से संपर्क करें

घर में साफ सफाई रखें

मंकीपॉक्स प्रभावित देशों से आने वाले लोगों से मिलने से बचें

हाथ धोकर भोजन करें

Check Also

रैली निकालकर दिया मतदाता जागरूकता का संदेश

Getting your Trinity Audio player ready... लखनऊ/उन्नाव,(माॅडर्न ब्यूरोक्रेसी न्यूज)ः केंद्रीय संचार ब्यूरो, सूचना एवं प्रसारण …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *