Breaking News

पवन खेड़ा को भेजा समन, कोर्ट ने स्मृति ईरानी की बेटी से जुड़ा ट्वीट हटाने को कहा

Getting your Trinity Audio player ready...

नई दिल्ली। दिल्ली उच्च न्यायालय ने शुक्रवार को केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी द्वारा दायर दीवानी मानहानि मामले में कांग्रेस नेताओं जयराम रमेश, पवन खेड़ा और डिसूजा को तलब किया। मानहानि के इस मुकदमे में उन्होंने अपने और अपनी बेटी पर कथित रूप से बेबुनियाद आरोप लगाने के लिए दो करोड़ रुपये से अधिक का हर्जाना मांगा है. पीठ ने कांग्रेस के तीन नेताओं को महिला एवं बाल विकास मंत्रालय का प्रभार संभालने वाली ईरानी पर लगे आरोपों से संबंधित ट्वीट, रीट्वीट, पोस्ट, वीडियो और तस्वीरें सोशल मीडिया से हटाने का आदेश दिया है।

उच्च न्यायालय का कहना है कि अगर प्रतिवादी 24 घंटे के भीतर निर्देश का पालन नहीं करता है तो सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर, फेसबुक और यूट्यूब सामग्री को हटा देगा। ईरानी की यह कार्रवाई कांग्रेस नेताओं द्वारा लगाए गए आरोपों के बाद सामने आई है. इसमें कहा गया है कि 18 साल की बेटी जोश ईरानी गोवा में अवैध बार चलाती थी। इस दौरान मंत्री पर निशाना साधा गया और मांग की कि पीएम नरेंद्र मोदी उन्हें कैबिनेट से बर्खास्त कर दें.
गौरतलब है कि कांग्रेस पार्टी के कुछ नेताओं ने उनकी बेटी पर अवैध बार चलाने का आरोप लगाया था. स्मृति ने इन आरोपों का पूरी तरह से खंडन किया। उन्होंने कहा कि मेरी बेटी 18 साल की है, जो राजनीति नहीं करती है। वह कॉलेज की छात्रा है। वह बार नहीं चलाती। कांग्रेस ने एक आरटीआई के आधार पर ऐसे आरोप लगाए हैं। लेकिन जिस तरह के आरटीआई की बात की जा रही है, उसमें कहीं भी उनकी बेटी का जिक्र नहीं है.

Check Also

समाज के अंतिम व्यक्ति तक त्वरित न्याय पहुंचाने में फोरेंसिक साइंस का विशेष महत्व-अवनीश अवस्थी

Getting your Trinity Audio player ready... लखनऊ,(माॅडर्न ब्यूरोक्रेसी न्यूज)। कानून को बनाए रखने में फॉरेंसिक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *