Breaking News

वफादार नहीं होते तो कांग्रेस की सरकार गिर चुकी होती-जोशी का पलटवार

नई दिल्ली। राजस्थान की राजनीति में उथल-पुथल के बीच सरकार के मुख्य सचेतक डॉ. महेश जोशी ने मंगलवार को कहा कि हम पार्टी के वफादार लोग हैं और अगर हम वफादार नहीं होते तो राज्य की कांग्रेस सरकार कब गिरती. यह बयान कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी अजय माकन के उस बयान का खंडन करते हुए दिया गया है जिसमें कहा गया था कि राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के वफादार विधायकों की अलग बैठक को अनुशासनहीनता करार दिया गया है.
सरकार के मुख्य सचेतक डॉ. महेश जोशी ने आगे कहा कि जिन लोगों पर सवाल उठाए जा रहे हैं, उनके प्रति वफादारी साबित करनी होगी. जोशी ने आगे कहा कि अगर कोई हमारे लोगों की वफादारी पर संदेह करता है तो हम उस वफादारी को हर हाल में साबित करेंगे. हमने आलाकमान के प्रति अपनी निष्ठा नहीं खोई। उन्होंने कहा कि अगर हमारी वफादारी नहीं होती तो राजस्थान में कांग्रेस की सरकार गिर गई होती। हम पार्टी के लोग वफादार हैं।

सचिन पायलट खेमे पर परोक्ष प्रहार करते हुए उन्होंने कहा कि हमने अपनी वफादारी साबित कर दी है, जिन लोगों से पूछताछ की जा रही है, उन्हें ही साबित करना है. आपको बता दें कि कांग्रेस विधायक दल की बैठक करने यहां आए कांग्रेस महासचिव और प्रदेश प्रभारी माकन ने सोमवार को कहा था कि (गहलोत के प्रति वफादार विधायकों का) की आधिकारिक बैठक में नहीं आना अनुशासनहीनता है. विधायक दल और उसके साथ एक समानांतर बैठक आयोजित करें।
रविवार रात मुख्यमंत्री आवास पर कांग्रेस विधायक दल की बैठक होनी थी, लेकिन गहलोत के वफादार विधायक शामिल नहीं हुए. इन विधायकों ने संसदीय कार्य मंत्री शांति धारीवाल के बंगले पर बैठक की और फिर विधानसभा अध्यक्ष डॉ सीपी जोशी से मिलने गए और उन्हें अपना इस्तीफा सौंपा। इन विधायकों की ओर से धारीवाल, जोशी और प्रताप सिंह ने खाचरियावास जाकर माकन और मल्लिकार्जुन खडग़े से मुलाकात की.
माकन ने कहा कि विधायक दल में प्रस्ताव लिए जाने के लिए इन लोगों ने तीन शर्तें रखीं. इस पर महेश जोशी ने कहा, ‘हमने कभी नहीं कहा कि ये तीन चीजें हमारे प्रस्ताव का हिस्सा होनी चाहिए। हमने कहा था कि आप इन तीन बातों से आलाकमान को अवगत कराएं, उसके बाद हम आलाकमान के निर्णय के अनुसार एक-पंक्ति का संकल्प पारित करेंगे। हमें समझा नहीं पाए या अजय माकन हमारी बात नहीं समझ पाए। मुझे नहीं पता कि यह भ्रम कैसे हुआ।

Check Also

कड़क प्रशासक एवं जनप्रिय अफसर के रूप में आज भी जाने जाते हैं, स्व. कैलाश नारायण पाण्डेय- आनंद उपाध्याय

लखनऊ,(माॅडर्न ब्यूरोक्रेसी न्यूज)। सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी स्वर्गीय कैलाश नारायण पांडे की पुण्य तिथि के अवसर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *