Breaking News

डिप्टी सीएम को भी भाया डीएम बहराइच का नैपियर ग्रास मॉडल

Getting your Trinity Audio player ready...

बहराइच। जिलाधिकारी बहराइच के लगातार जिले के विकास के लिए किए जा रहे कार्यों की सराहना तो जनपद मेें हो रही थी लेकिन अब खुद सूबे के उपमुख्यमंत्री बृजेश पाठक ने डॉ. दिनेश चंद्र के कार्यों की तारीफ की है। खासतौर पशुओं के हरे चारे के लिए जिस तरह से नेपीयर ग्रास का मॉडल डीएम ने विकसित किया, उससे डिप्टी सीएम खासे प्रभावित नजर आए। श्री पाठक ने कहा कि जिस तरह से बहराइच में गोवंशों के हरे चारे के लिए डीएम की ओर से प्रयास किए गए हैं, ये सूबे में एक रोल मॉडल की तरह है। उन्होंने उम्मीद जताई कि प्रदेश के सभी अस्थायी गोवंश आश्रय स्थलों में इसी तर्ज पर गोवंशों के लिए हरे चारे का इंतजाम किया जाए।

उप मुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक ने तहसील कैसरगंज अन्तर्गत अस्थायी गोवंश आश्रय स्थल परसेण्डी का निरीक्षण किया। गोआश्रय स्थल पहुॅचने पर डिप्टी सीएम ने सर्वप्रथम नैपियर घास से लहलहाते खेत में पहुॅच कर जिलाधिकारी डॉ. दिनेश चन्द्र के नवाचार की मुक्तकंठ से सराहना करते हुए कहा कि जिलाधिकारी का यह प्रयास गोवंशों के वरदान साबित होगा। श्री पाठक ने डीएम डॉ. चन्द्र की सराहना करते हुए नैपियर घास के मॉडल को सम्पूर्ण प्रदेश के लिए अनुकरणीय व उपयोगी बताया। श्री पाठक ने कहा कि नैपियर ग्रास के मॉडल को प्रदेश के सभी गोआश्रय स्थलों में अपनाया जाय। इससे वर्ष भर संरक्षित गोवंशों के लिए हरा चारा उपलब्ध रहेगा।
इसके पश्चात डिप्टी सीएम ने भूसा भण्डार कक्ष का निरीक्षण करते हुए श्रमदान कर चारा कटर मशीन से अपने हाथों से हरा चारा (नैपियर घास) की कटाई कर गोशाला में संरक्षित गोवंशों को हरा चारा, फल, गुड व चना खिलाकर गोसेवा की तथा ग्रामवासी राम कुमार को मुख्यमंत्री सहभागिता योजना के तहत गोदान भी किया। उप मुख्यमंत्री ने गोशाला में संरक्षित गोवंशाों के लिए उपलब्ध सुविधाओं का जायजा लेते हुए मौके पर मौजूद मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डॉ. राजेन्द्र प्रसाद से आवश्यक जानकारी प्राप्त की।
मुख्य पशु चिकित्साधिकारी ने बताया कि अस्थायी गोवंश आश्रय स्थल परसेण्डी में वर्तमान समय में 282 गोवंश संरक्षित है। जिसमें 153 नर व 129 मादा गोवंश है। यहॉ पर पशुओं के हरे चारे के लिए जिलाधिकारी डॉ. दिनेश चन्द्र के प्रयास व प्रेरणा से लगभग तीन हेक्टेयर क्षेत्रफल में नैपियर घास की बोआई की गई है। वर्तमान समय में यहॉ पर नैपियर घास की फसल लहलहा रही है। यहॉ पर संरक्षित गोवंशों के लिए लगभग 70 कुण्टल भूसा भी संरक्षित है। श्री पाठक ने निर्देश दिया कि संरक्षित गोवंशों को शासन द्वारा अनुमन्य सभी सुविधाएं उपलब्ध करायी जायें ताकि किसी गोवंश को कोई असुविधा न हो।
गोशाला की उत्कृष्ट व्यवस्थाओं से प्रसन्न होकर श्री पाठक ने ग्राम प्रधान रियाज अहमद के प्रयासों की सराहना की और कहा कि परसेण्डी गोशाला जनपद की अन्य गोशालों के लिए उदाहरण है। उन्होंने निर्देश दिया कि जिले की अन्य गोशालों पर भी परसेण्डी गोशाला के अनुरूप ही सभी प्रबन्ध सुनिश्चित किये जायें। श्री पाठक ने ग्राम प्रधान को निर्देश दिया कि गो आश्रय स्थल में पशुओं को छाया उपलब्ध कराने हेतु लिए पाकड़ के पौध लगवायें।
इस अवसर विधायक पयागपुर सुभाष त्रिपाठी, भाजपा जिला अध्यक्ष श्यामकरन, जिलाधिकारी डॉ. दिनेश चन्द्र, पुलिस अधीक्षक केशव कुमार चौधरी, मुख्य विकास अधिकारी कविता मीना, मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. एस.के. सिंह, उप जिलाधिकारी कैसरगंज महेश कुमार कैथल, पुलिस क्षेत्राधिकारी कैसरगंज कमलेश कुमार सिंह, अधि.अभि. जल निगम सौरभ सुमन, उप मुख्य पशु चिकित्साधिकारी कैसरगंज डॉ महेन्द्र कुमार सचान, पशु चिकित्साधिकारी कुण्डासर डॉ अनुराग यादव सहित अन्य सम्बन्धित अधिकारी, क्षेत्रीय गणमान्य व संभ्रान्तजन मौजूद रहे।

Check Also

वृहद वृक्षारोपण अभियान के लिए विभागों ने कसी कमर

Getting your Trinity Audio player ready... लखनऊ,(माॅडर्न ब्यूरोक्रेसी न्यूज)ः प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *