Breaking News

डीएम बहराइच की इस मुहिम की मुख्य सचिव ने की सराहना

Getting your Trinity Audio player ready...

लखनऊ/बहराइच। जिलाधिकारी बहराइच द्वारा हरे चारे को लेकर जिले को आत्मनिर्भर बनाने की मुहिम रंग लाती हुयी दिख रही है। प्रदेश के मुख्य सचिव ने हरे चारेे के लिए बहराइच जनपद का नेपियर घास मॉडल प्रदेश भर में लागू करने के लिए निर्देश दिये हैं। चारा प्रबन्धन विशेषकर हरा चारा प्रबन्धन में आत्मनिर्भर बनाये जाने के लिए नेपियर घास के संवर्द्वन एवं क्षेत्र विकास के लिए किये जा रहे को लेकर मुख्य सचिव की अध्यक्षता में आयोजित वीडियो कांफ्रेंसिंग में जिलाधिकारी डॉ. दिनेश चन्द्र को पावर प्वाईन्ट प्रेज़ेन्टेशन हरे चारे (नेपियर घास)की विशेषताएं बतायी।
डीएम डॉ. चन्द्र ने बताया कि गोवंशों के चारे में मुख्यतः सूखा चारा, हरा चारा एवं दाना तीन हिस्से होते हैं। सूखे चारे मे भूसा बहुतायत से पशुओं को खिलाया जाता है, जिसकी कीमत ज़्यादा होती है एवं पोषण तत्व नगण्य होते हैं। इस समस्या के समाधान के लिये मक्का, चरी, बरसीम, जई आदि हरे चारे का प्रयोग कर गोवंशों को खिलाया जाता है, परन्तु यह सभी चारे ऋतु आधारित होते हैं, वर्ष पर्यन्त हरे चारे की आपूर्ति के लिए संकर नैपियर घास गोवंशों के लिए वरदान साबित हो रहा है। डीएम ने कहा कि नैपियर घास की विशेषताओं पर प्रकाश डालते हुए डीएम डॉ. चन्द्र ने बताया कि पौष्टिक एवं सूपाच्य होने के साथ-साथ यह एक बहुवर्षीय हरा चारा है। इसे एक बार बोने पर पांच वर्षों तक उत्पादन प्राप्त किया जा सकता है। डीएम डॉ. चन्द्र ने बताया कि जिले में वर्तमान में नैपियर घास के क्षेत्र को विस्तारित कर लगभग 58 हे. क्षेत्र में नैपियर घास लगायी जा चुकी है। जिसमें अस्थाई गोवंश आश्रय स्थल, वृहद गो आश्रय स्थल एवं उनसे लिंक चारागाह शामिल हैं। जनपद में कुल 100 हे. में नैपियर घास लगाए जाने का लक्ष्य रखा गया है जिसे प्राप्त करने के लिए युद्ध स्तर पर प्रयास किये जा रहे हैं। निजी क्षेत्र में भी नैपियर घास के विस्तार के लिए जिले के लगभग 1200 किसानों को नैपियर घास के बीज का वितरण कर उन्हें तकनीकी सहयोग भी प्रदान किया जा रहा है। डीएम ने बताया कि जनपद में नैपियर घास का सफर माह जून 2021 से प्रारम्भ हुआ। तत्कालीन मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डॉ. बलवन्त सिंह को जनपद सहारनपुर भेजकर घास का बीज मंगा कर अपने सरकारी आवास तथा ब्लाक पयागपुर के ग्राम त्रिकोलिया में घास की रोपाई करायी गयी थी। लगभग 01 वर्ष की अल्पअवधि में डीएम के सरकारी आवास तथा कृषि विज्ञान केन्द्र बहराइच एवं नानपारा में 01-01 एकड़ क्षेत्रफल में नैपियर घास बीज उत्पादन किया जा रहा है। वर्तमान में मुख्य विकास अधिकारी कविता मीना के मार्गदर्शन में जिले के समस्त 14 विकास खण्डों में अलग-अलग स्थानों पर 51 हे. क्षेत्र में नैपियर घास की बोआई की गई है। वर्चुअल मीटिंग के दौरान मुख्य सचिव, दुर्गा शंकर मिश्र ने कहा कि गोवंशों के संवर्द्धन तथा वर्षभर हरा चारा की उपलब्धता के लिए नैपियर घास को लेकर डीएम बहराइच द्वारा किया गया अभिनव प्रयास सराहनीय है। श्री मिश्र ने कहा कि नैपियर घास के क्षेत्र विस्तार से सभी गोवंशों विशेषकर गोआश्रय स्थलों में संरक्षित निराश्रित गोवंशों के लिए वरदान साबित होगी। मुख्य सचिव श्री मिश्र ने कहा कि डीएम बहराइच का प्रयास प्रदेश के अन्य जनपदों के लिए अनुकरणीय है।

Check Also

बाढ़ग्रस्त इलाकों में निराश्रित गोवंश को लेकर मंत्री ने जतायी चिंता, दिये यह निर्देश

Getting your Trinity Audio player ready... लखनऊ,(माॅडर्न ब्यूरोक्रेसरी न्यूज)ः प्रदेश के पशुधन एवं दुग्ध विकास …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *