Breaking News

यूपी की इस दबंग महिला आईएएस को सरकार ने दिया मौका, तो अफसर ने बदल कर रख दी विभाग की सूरत

आईएएस किंजल सिंह

लखनऊ, (माॅडर्न ब्यूरोक्रेसरी न्यूज)।। यूपी की आईएएस किंजल सिंह ने चिकित्सा शिक्षा व प्रशिक्षण महानिदेशक (डीजीएमई) का पद संभालने के बाद कुछ ही महीनों में विभाग में कई महत्वपूर्ण कार्यो को अंजाम तक पहुंचाया, वहीं विभाग की कार्यप्रणाली को भी पारदर्शी बनाया। ज्ञात हो कि डीजीएमई पद पर आईएएस अधिकारी की तैनाती को लेकर उच्च न्यायालय में पीआईएल हुई थी। इसके बाद भी सरकार ने तेज-तर्रार अधिकारी किंजल पर भरोसा जताते हुये, कैबिनेट निर्णय के तहत उन्हें डीजीएमई के पद पर बनाये रखा। वहीं किंजल सिंह भी सरकार की कसौटी पर खरी उतरी, विभाग में जो कार्य अर्से से लम्ब्ंिात पड़े थे, उन्होंने उसे प्राथमिकता के आधार पर पूरा किया। इसके साथ ही उन्होंने चिकित्सा शिक्षा से जुड़ी समस्याओं का भी समाधान किया।

चिकित्सा शिक्षा व प्रशिक्षण महानिदेशक का पदभार ग्रहण करने के बाद किंजल सिंह ने सबसे पहले छात्र सेल पर फोकस किया, मेडिकल छात्रों की षिकायतों का निपटारा प्राथमिकता के साथ किया। उन्होंने वर्ष 2023 में अनिवार्य शासकीय सेवा बान्ड के अन्र्तगत सीनियर रेजीडेन्ट के पद पर सेवायोजित किये जाने के लिए एनआईसी के माध्यम से आनलाईन काउंसिलिंग का आयोजन किया गया, जिसमें नीट पीजी 2019(डिग्री) बैच के 176 अभ्यर्थियों,नीट पीजी 2020(डिप्लोमा) बैच के 07 अभ्यर्थियों तथा नीट पीजी 2020(डिग्री) बैच के 684 अभ्यर्थियों को सीनियर रेजीडेन्ट के पद पर सेवायोजित किया। वहीं उन्होंने महिला सीनियर रेजीडेन्ट, जूनियर रेजीडेन्ट, डिमान्सट्रेटर, ट्यूटर व नान पीजी जूनियर रेजीडेन्ट को प्रसूति अवकाश दिये जाने के लिए नीति निर्धारित करायी। यू0पी0 नीट यूजी,पीजी सहित डीएनबी-2023 की आनलाइन काउंसिलिंग का सुचारू एवं व्यवस्थित रूप से आयोजन कराया। वहीं लंम्बित चल रहे पीपीपी मोड पर स्थापित होने वाले 3 नये मेडिकल कालेजों (महाराजगंज, संभल एवं शामली) तथा स्वशासी राज्य चिकित्सा महाविद्यालय के रूप में फेज-3 के अन्र्तगत स्थापित होन वाले 14 नये मेडिकल कालेजों के लिए अनिवार्यता प्रमाण-पत्र भी निर्गत कराया गया। इसके साथ ही पाॅंच स्वशासी राज्य चिकित्सा महाविद्यालयों यथा अयोध्या,बस्ती, शाहजहाॅंपुर, एटा एवं मीरजापुर में प्रधानाचार्य पद पर चयन की कार्यवाही सम्पन्न कराते हुये 04 प्रधानाचार्यों की नियुक्ति करायी। वहीं फेज 3 में 13 स्वशासी राज्य चिकित्सा महाविद्यालयों में माह जुलाई,2023 में साक्षात्कारोंपरान्त 226 चिकित्सा शिक्षकों के चयन की कार्यवाही पूर्ण कराते हुये उनके नियुक्ति आदेश निर्गत कराये जानें की कार्यवाही पूर्ण की गयी।

वहीं प्रदेश के राजकीय मेडिकल कालेजों, राजकीय चिकित्सा संस्थानों, स्वशासी राज्य चिकित्सा महाविद्यालयों में कार्यरत अधिकारियों व कर्मचारियों का मानव संपदा पोर्टल पर पंजीकृत डाटा को ससमय अद्यतन कराये जाने की कार्यवाही पूर्ण की गयी। वहीं राजकीय मेडिकल कालेजों व हृदय रोग संस्थान कानपुर में तैनात स्टाफ नर्स के 178 कार्मिकों की पदोन्नति दिनांक 29 मार्च 2023 को नर्सिंग सिस्टर के पद पर करते हुये व्यक्तिगत काउंसिलिग के माध्यम से तैनाती की कार्यवाही की गई। फेज-1 के 5 स्वशासी राज्य चिकित्सा महाविद्यालय यथा अयोध्या, बहराइच,शाहजहांपुर, बस्ती, फिरोजाबाद, फेज-2 के 8 स्वशासी राज्य चिकित्सा महाविद्यालय एटा, हरदोई, फतेहपुर,मीरजापुर, गाजीपुर, देवरिया, प्रतापगढ़, सिद्धार्थनगर तथा स्वशासी राज्य चिकित्सा महाविद्यालय, जौनपुर के स्टाफ नर्स के 1974 पदों के लिए 1974 अभ्यर्थियों का डाक्यूमेंन्ट वेरीफिकेशन कराया गया तथा उसके सापेक्ष अर्ह पाये गये 1554 अभ्यर्थियों की तैनाती की गयी। इसके साथ ही फेज-3 के 14 स्वशासी राज्य चिकित्सा महाविद्यालय यथा अमेठी, औरैया, कानपुर देहात, कुशीनगर, कौशाम्बी, गोण्डा, चन्दौली, पीलीभीत, बुलन्दशहर, बिजनौर, लखीमपुर-खीरी, ललितपुर, सुलतानपुर एवं सोनभद्र के स्टाफ नर्स के 1974 पदों (141 पद प्रति मेडिकल कालेज) का अधियाचन शासन को प्रेषित किया गया।

 

 

Check Also

कड़क प्रशासक एवं जनप्रिय अफसर के रूप में आज भी जाने जाते हैं, स्व. कैलाश नारायण पाण्डेय- आनंद उपाध्याय

लखनऊ,(माॅडर्न ब्यूरोक्रेसी न्यूज)। सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी स्वर्गीय कैलाश नारायण पांडे की पुण्य तिथि के अवसर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *