Breaking News

देश के शहीदों का बलिदान कभी नहीं भूलाया जा सकता – कुलपति

Getting your Trinity Audio player ready...

लखनऊ,(माॅडर्न ब्यूरोक्रेसी न्यूज)ः बाबासाहेब भीमराव अम्बेडकर विश्वविद्यालय में एनसीसी इकाई (20 यूपी बालिका वाहिनी एनसीसी, 67 यूपी बटालियन एनसीसी) एवं विश्वविद्यालय के संयुक्त तत्वावधान में शहीद दिवस के अवसर पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता विश्वविद्यालय के कुलपति आचार्य संजय सिंह ने की। कार्यक्रम की शुरुआत कुलपति एवं अन्य शिक्षकों द्वारा तीन बहादुर स्वतंत्रता सेनानियों भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव थापर के छायाचित्र पर पुष्पांजलि अर्पित करने के साथ हुई।
इस अवसर पर कुलपति आचार्य संजय सिंह ने कहा कि, आजादी की लड़ाई में अपने प्राणों का बलिदान देने वाले महापुरुषों को भारतवासी कभी नहीं भूल सकते। हम सभी का कर्तव्य है कि इन महापुरुषों से प्रेरणा लेकर मातृभूमि के प्रति सर्वस्व न्यौछावर करने को तैयार रहे। शहीद दिवस के अवसर पर एक राष्ट्रीय वेबिनार का भी आयोजन किया गया। जिसमें मुख्य अतिथि के तौर पर कर्नल जय प्रकाश मिश्र एवं डॉ० आकांक्षा सिंह उपस्थित रहीं। सर्वप्रथम डॉ० राजश्री ने सभी को अतिथियों के परिचय से अवगत कराया। कार्यक्रम संचालन का कार्य डॉ० सूफिया अहमद द्वारा किया गया। वहीं कर्नल जय प्रकाश मिश्र ने चर्चा के दौरान कहा कि हमें अपने इतिहास के बारे में नही भूलना चहिए और हमे कोशिश करनी चाहिए की हमारे युवाओ के साथ भविष्य में कोई ऐसी अप्रिय घटना न घटित हो। डॉ० आकांक्षा सिंह ने स्वतंत्रता सेनानी भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव थापर की वीरता की सराहना करते हुए बताया कि ये सभी देश के लिए आदर्श है। इसी के साथ एसोसिएट एनसीसी अधिकारी डॉ० मनोज डढवाल ने सभी युवाओं को देशहित के प्रति कार्य करने को प्रेरित किया। अंत में धन्यवाद ज्ञापन का कार्य डॉ० अभिषेक वर्मा ने किया। कार्यक्रम के दौरान डीएसडबल्यू प्रो० बी०एस० भदौरिया, प्रॉक्टर प्रो० संजय कुमार, डॉ० अजय कुमार मोहंती, डॉ० नरेंद्र कुमार, डॉ० पवन कुमार चैरसिया, डॉ० रवि शंकर वर्मा, डॉ० ओ० पी० सैनी, डॉ० अनिल यादव, अन्य शिक्षक, कर्मचारीगण एवं विश्वविद्यालय के अन्य विद्यार्थी मौजूद रहे।

Check Also

शिक्षा और उद्योग के बीच की खाई को पाटने का काम करता है रोजगार मेला- प्रोफेसर विनीता काचर

Getting your Trinity Audio player ready... लखनऊ,(माॅडर्न ब्यूरोक्रेसी न्यूज)। प्रबंधन विज्ञान संस्थान और लखनऊ विश्वविद्यालय …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *