Breaking News

राजकीय आश्रम पद्धति विद्यालय की बदहाल हालात देख डीएम का पारा हुआ हाई

राजकीय आश्रम पद्धति विद्यालय में अपने हाथों से खाना परोसते जिलाधिकारी डा. दिनेश प्रताप चन्द्र

लखनऊ/बहराइच। समाज कल्याण विभाग द्वारा संचालित राजकीय आश्रम पद्धति विद्यालय बभनी रिसिया का जिलाधिकारी डा. दिनेश चन्द्र ने औचक निरीक्षण किया, इस दौरान डीएम को आश्रम पद्धति विद्यालय में खामियां ही खामियां नजर आयी। डीएम के निरीक्षण में प्रधानाचार्या सहित अन्य स्टॉफ गायब मिले तो वहीं मेस में गंदगी देख डीएम का पारा हाई हो गया। उन्होंने संबधित एजेंसी व अनुपस्थित स्टॉफ का वेतन रोकने के निर्देश दिये साथ ही विद्यालय की बदहाल स्थिति पर जिला समाज अधिकारी को नोटिस जारी की है।
जिलाधिकारी डॉ. दिनेश चन्द्र ने दोपहर लगभग 1 बजे विद्यालय का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के समय मौके पर मौजूद कनिष्ठ लिपिक विनोद ने बताया कि दोपहर के भोजन का समय मध्यान्ह 12ः00 बजे से अपरान्ह 12ः40 बजे तक है। परन्तु अपरान्ह 01ः00 बजे तक मेस नहीं खुला था और न ही सर्विस स्टार्ट हुई थी। जिस पर डीएम का पारा हाई हो गया, उन्होंने भोजन में देरी के कारणों का जायज़ा लेने के लिए जब रसोई का निरीक्षण किया तो साफ-सफाई तथा अन्य व्यवस्थाएं देखी तो बदहाल पाया।

जिस पर उन्होंने अधिकारियों को फटकार लगायी। उन्होंने पाया कि निर्धारित मीनू के अनुसार बालिकाओं के लिए मटर पनीर की सब्ज़ी, पूड़ी, पापड़, चावल तथा खीर लगभग तैयार है। इसके उपरान्त डीएम ने तत्काल मेस खुलवाकर बच्चों को अपने हाथों से भोजन परोसा। इस दौरान डीएम ने बच्चों से रू-ब-रू होते हुए उनकी शिक्षा-दीक्षा, हास्टल की व्यवस्थाओं इत्यादि के बारे में भी जानकारी प्राप्त की। सब्ज़ी में पनीर की मात्रा कम पाये जाने तथा भोजन के साथ सलाद सर्व न करने पर डीएम ने नाराज़गी व्यक्त करते हुए निर्देश दिया कि बच्चियों को खाने में सलाद अनिवार्य रूप से परोसा जाय।

राजकीय आश्रम पद्धति विद्यालय के मेस में बालिकाओं से जानकारी प्राप्त करते जिलाधिकारी

रविवार अवकाश का दिन होने के कारण निरीक्षण के समय कोई भी शिक्षक उपस्थित नहीं पाया गया। यहॉ तक वार्डेन कल्पना सैनी, फार्मासिस्ट आलोक कुमार तिवारी, सफाई कर्मी श्रीमती सावित्री देवी व रीना देवी तथा अवकाश का दिन होने के कारण दिन के समय देखभाल के लिए जिम्मेदार प्रधानाचार्य डॉ. संदीप त्रिपाठी तथा सांयकाल के लिए जिम्मेदार उप प्रधानाचार्य डॉ. अरूण कुमार मिश्र भी विद्यालय में मौजूद नहीं थे। डीएम डॉ. चन्द्र ने इस स्थिति का कड़ा संज्ञान लेते हुए बालिकाओं को खाना परोसने में विलम्ब के लिए जिम्मेदार संस्था नव प्रयास का आज का भुगतान बाधित करने तथा अनुपस्थित पाये गये प्रधानाचार्य, सहायक प्रधानाचार्य, वार्डेन ताा अन्य कार्मिकों को कारण बताओं नोटिस जारी करने तथा वेतन बाधित करने का निर्देश जिला समाज कल्याण अधिकारी को दिया है। वहीं जिलाधिकारी के निरीक्षण के समय कनिष्ठ लिपिक विनोद के अतिरिक्त गार्ड श्रीमती मीना, श्रीमती जय कोरा धोबी, सफाई कर्मी गीता देवी व रिंकू, पलम्बर निसार हुसैन उपस्थित पाये गये।

 

Check Also

कड़क प्रशासक एवं जनप्रिय अफसर के रूप में आज भी जाने जाते हैं, स्व. कैलाश नारायण पाण्डेय- आनंद उपाध्याय

लखनऊ,(माॅडर्न ब्यूरोक्रेसी न्यूज)। सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी स्वर्गीय कैलाश नारायण पांडे की पुण्य तिथि के अवसर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *