Breaking News

हत्या का कारण कहीं वो फेसबुक पोस्ट तो नहीं!

Getting your Trinity Audio player ready...

नई दिल्ली. कर्नाटक के बेल्लारी में बीजेपी नेता प्रवीण की निर्मम हत्या में एक एंगल सामने आया है. प्रवीण नेतरू ने उदयपुर में कन्हैयालाल का सिर काटने की घटना पर गंभीर सवाल उठाए थे। इस मामले में पुलिस अब तक 5 लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है. प्रवीण ने धर्मनिरपेक्ष लोगों की चुप्पी पर गंभीर सवाल उठाए थे। प्रवीण ने 29 जून को कन्हैयालाल के बारे में पोस्ट किया था। इसमें प्रवीण ने लिखा था कि इन लोगों ने बेचारे टेलर को मार डाला है। इतना ही नहीं ये सब हमारे पीएम को टारगेट करने की बात कर रहे हैं. सूत्रों की माने तो इस हत्याकांड में पीएफआई का भी नाम सामने आ रहा है।
बीजेपी युवा मोर्चा के पदाधिकारी प्रवीण बेल्लारी में पोल्ट्री की दुकान चलाते थे. मंगलवार की रात जब वह घर लौट रहा था तो बाइक सवार हमलावरों ने उस पर कुल्हाड़ी से हमला कर उसकी हत्या कर दी। पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई है। इसी बीच यह नई जानकारी 29 जून को प्रवीण के फेसबुक पोस्ट से मिली है. प्रवीण ने अपनी पोस्ट में लिखा है कि आज एक गरीब दर्जी को सरेआम काटकर वीडियो बना दिया गया है. ये कट्टरपंथी कह रहे हैं कि हमारा अगला निशाना प्रधानमंत्री मोदी हैं। सेक्युलर लोगों की चुप्पी पर सवाल उठाते हुए उन्होंने पूछा था कि आप सब कहां हैं…तुम्हारी इन बॉक्स अब क्यों जली…? उस राज्य में कांग्रेस की सरकार है, अब आप मुंह क्यों नहीं खोल रहे हैं। क्या आपको गरीबों के जीवन पर कोई दया नहीं है?
कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने घटना पर दुख व्यक्त करते हुए कहा है कि हत्यारों को जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा। इस मामले में अब तक 10 से ज्यादा लोगों से पूछताछ की जा रही है. पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया है। वहीं कर्नाटक के गृह मंत्री ने कहा है कि पुलिस आरोपी को पकडऩे के लिए तलाशी अभियान चला रही है.
उन्होंने कहा कि आशंका है कि हत्यारे घटना को अंजाम देकर केरल भाग गए हैं। ऐसे में कर्नाटक की पुलिस केरल की पुलिस के संपर्क में है. इस हत्या के पीछे कोई राजनीतिक साजिश थी या कोई और कारण, इसकी जांच की जा रही है। वहीं केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद जोशी ने दावा किया है कि मामला पीएफआई और सीडीपीआई से जुड़ा है. उनका कहना है कि मामले की प्रारंभिक रिपोर्ट और मीडिया रिपोर्ट्स से संकेत मिलता है कि इस हत्याकांड के तार एसडीपीआई और पीएफआई से जुड़े हुए हैं।

Check Also

फॉरेंसिक विषयों के पहलुओं को छात्रों ने बारीकि से समझा

Getting your Trinity Audio player ready... लखनऊ,(माॅडर्न ब्यूरोक्रेसी न्यूज)ः उत्तर प्रदेश स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ फॉरेंसिक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *