Breaking News

दलित उद्यमी देगें समाज के नौजवानों को कामयाबी का मंत्र

समाज कल्याण निदेशालय में ग्लोबल इन्वेसटर्स समिट की तैयारियों में जुटे दलित उद्यमी।

लखनऊ। ग्लोबल इन्वेसटर्स समिट को लेकर तैयारियां पूरी होने को आ गयी हैं। एक तरफ जहां समिट को सफल और ऐतिहासिक बनाने के लिए यूपी सरकार ने लगभग सभी तैयारियां पूरी कर ली हैं तो वहीं दूसरी ओर समिट को सफल बनाने और अपनी सहभागिता के लिए उद्यमी भी एड़ी से चोटी का जोर लगा रहे हैं। इसी क्रम में समाज कल्याण निदेशालय में नजारा एकदम अलहदा नजर आया। यहां विभाग के एक कमरे में दलित इंडियन चैम्बर ऑफ कामर्स के उद्यमी अपनी सभी तैयारियों में जुटे हुये नजर आये, लगभग आधा दर्जन से अधिक दलित उद्यमी तैयारियों को लेकर मशगूल दिखे, इन सबका नेतृत्व संगठन के यूपी चैप्टर के अध्यक्ष कुंवर शशांक द्वारा किया जा रहा था। आपको बता दे कि बीते महीने राजधानी के एक होटल में समाज कल्याण मंत्री असीम अरूण की पहल पर दलित उद्यमी एकजुट हुये और प्रदेश की तरक्की को लेकर इन उद्यमियों ने एक हजार करोड़ से अधिक निवेश करने की मंशा जतायी। इस बावत एक समझौता ज्ञापन भी साइन किया था।

डिक्की के यूपी चैप्टर के अध्यक्ष कुंवर शशांक

दलित इंडियन चैम्बर ऑफ कामर्स के यूपी चैप्टर के अध्यक्ष कुंवर शशांक ने बताया कि प्रदेश को तरक्की के ओर ले जाने की दिशा में दलित उद्यमियों द्वारा यह एक छोटा सा प्रयास है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार का सहयोग मिलता रहा तो वाकई डिक्की संगठन के सदस्य प्रदेश की तरक्की को एक नयी रप्तार देने में कामयाब होगें। श्री शशांक का कहना है कि दलित अब श्रमिक नहीं, वह मालिक बनेंगे उनका अपना व्यवसाय होगा। देश और प्रदेश की तरक्की में दलित वर्ग के लोग भी अहम भूमिका निभा रहे हैं। उन्होंने बताया कि उनके संगठन के उद्योगपति देश और प्रदेश के कोने कोने में काम कर राष्ट्र की प्रगति में बहुमूल्य योगदान दे रहे हैं। उन्होनें कहा कि डिक्की संगठन के सदस्य प्रदेश के हर जिलों में काम कर रहे हैं, मंडल और जिलों वार निगरानी समिति गठित की गयी है, जो इन उद्यमियों को होने वाली परेशानियों को सरकार और शासन के समक्ष रख उनका निराकरण करती है। उन्होंने बताया कि ग्लोबल इन्वेसटर्स समिट को लेकर बारीक से बारीक चीजों पर उनकी निगाह है। डिक्की के 250 से अधिक सदस्य इन समिट में भाग लेगें अधिकतर सदस्यों के रजिस्ट्रशन की औपचारिकताएं पूरी हो चुकी हैं। उन्होने बताया कि डिक्की के राष्ट्रीय अध्यक्ष मिलिंद काम्बले इस समिट में अपना व्याख्यान भी देगें। इसके साथ वह संगठन के कार्य, उद्देश्य व भविष्य की योजनाओं पर चर्चा करेंगे। उन्होंने बताया कि समाज कल्याण मंत्री असीम अरूण के नेतृत्व में विभिन्न उद्योगों के जरिये करीब एक हजार करोड़ के निवेश की रूपरेख तय करेगें। उन्होंने कहा कि डिक्की एक कम्पनी की तरह नहीं बल्कि एक समाज की तरह एकजुट होकर काम करने में विश्वास रखता है। उन्होंने कहा कि इस समिट के सहारे समाज के युवाओं को कामयाबी का मंत्री दिया जायेगा जिससे वह नौकरी मांगने वाला नहीं, नौकरी देने वाला बने, उन्होनें कहा कि समाज में युवाओं के पास प्रतिभा की कमी है। उन्होंने कहा कि उनका संगठन दलित समाज के युवाओं के लिए आशा की एक नयी किरण बनेगा।

केन्द्र सरकार की तरह, यूपी सरकार से भी मदद की है आस

दलित इंडियन चैम्बर ऑफ कामर्स यूपी चैप्टर के कुंवर शशांक बताते हैं कि उनके संगठन के सदस्यों को केन्द्र सरकार की योजनाओं के साथ काम करने में बहुत सहुलियत होती है, दलित उद्यमियों को आगे बढ़ाने के लिए केन्द्र सरकार पूरी पारदर्शिता के साथ काम कर रही है, चाहे वह कोई उद्यम लगाने की बात हो या फिर केन्द्र सरकार की किसी योजना के लाभ लेने की बात हो, सभी तरह के कार्य सिंगल विंडो सिस्टम के आधार पर प्राथमिकता के साथ समय सीमा के अंदर हो जाते हैं, शशांक कहते हैं यूपी सरकार को दलित उद्यमियों पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है, जिससे उनके कार्य शासन स्तर पर न रूके तो दलित उद्यमी प्रदेश की तरक्की की दिशा में एक नयी इबारत लिखने के लिए तैयार है। उन्होंने प्रदेश सरकार से मांग की है कि दलित उद्यमी जिन भी चीजों का निर्माण करते हैं, उसे खरीदने के लिए सरकार से कोटा निर्धारित हो, दलित उद्यमियों की पॉलिसी को सार्वजनिक करने के साथ ही सरकारी विभागों के विभागाध्यक्षों को यह निर्देश दिये जाये कि वह उद्यमियों के लिए नियमों मे थोड़ी ढील बरतें। जमीन के आवंटन के नियमों को शिथिल किया जाये इसके साथ ही प्रदेश के औद्योगिक एरिया में दलित उद्यमियो के लिए भूंखडों को रिजर्व किया जाये, और अगर प्रदेश सरकार भूखंड न एलॉट करे तो कम से कम रोजगार या उद्यम लगाने के लिए सस्ती दरों पर किराये के भंखडों का आवंटन करने की नीति बनायी जाये। श्री शशांक ने प्रदेश सरकार से दलित उद्यमियों की मांगों पर सहानुभूतिपूर्वक विचार करने की मांग की है।

समाज कल्याण मंत्री असीम अरूण की सोच है बेमिसाल

समाज कल्याण मंत्री असीम अरूण की यह सोच का परिणाम है कि इतने कम समय में 250 से अधिक उद्यमी यूपी ग्लोबल इन्वेसटर्स समिट में एक हजार करोड़ का निवेश करेंगे। दलित इंडियन चैम्बर ऑफ कामर्स यूपी चैप्टर के अध्यक्ष कुंवर शशांक ने कहा कि विभागीय मंत्री असीम अरूण, प्रमुख सचिव डा. हरिओम और निदेशक समाज कल्याण पवन कुमार के सहयोग के कारण ही डिक्की आज प्रदेश की तरक्की के लिए एक नयी इबारत लिखने को तैयार है। उन्होंने कहा कि विभागीय मंत्री और वरिष्ठ अधिकारियों के मार्गदर्शन के लिए डिक्की और वह स्वयं बहुत आभारी हैं।

Check Also

कड़क प्रशासक एवं जनप्रिय अफसर के रूप में आज भी जाने जाते हैं, स्व. कैलाश नारायण पाण्डेय- आनंद उपाध्याय

लखनऊ,(माॅडर्न ब्यूरोक्रेसी न्यूज)। सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी स्वर्गीय कैलाश नारायण पांडे की पुण्य तिथि के अवसर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *