Breaking News

चेहरे पर दिखाई दें ये लक्षण, तो पेट में हो सकता है कैंसर

Getting your Trinity Audio player ready...

कैंसर एक गंभीर और जानलेवा बीमारी है। कैंसर कई प्रकार के होते हैं और उनमें से एक है पेट का कैंसर, जिसे गैस्ट्रिक कैंसर भी कहा जाता है। पेट का कैंसर तब होता है जब पेट के भीतर की कोशिकाएं असामान्य रूप से बढऩे लगती हैं। हालांकि विशेषज्ञों का मानना है कि जब पेट का कैंसर होता है, तो इसके कुछ लक्षण बाहरी त्वचा पर, खासकर मुंह पर देखे जा सकते हैं। ऐसा माना जाता है कि मुंह पर दिखने वाले ये लक्षण आमतौर पर बीमारी के शुरुआती चरण हो सकते हैं। चाइनीज जर्नल ऑफ कैंसर रिसर्च में प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार, गैस्ट्रिक कैंसर एक दुर्लभ त्वचा रोग का कारण बन सकता है, जिसे पैपुलोएरिथ्रोडर्मा का ओफूजी (पीईओ) कहा जाता है। इस स्थिति के लक्षण लगभग पूरे शरीर में देखे जा सकते हैं, खासकर चेहरे पर। ऐसे में आपको त्वचा पर छोटे उभरे हुए थक्के, त्वचा में सूजन और छिलने जैसे लक्षण महसूस हो सकते हैं। इसके अलावा आपको त्वचा में खुजली भी हो सकती है।
त्वचा के लक्षणों के अलावा, पेट के कैंसर के शुरुआती लक्षणों में भूख में कमी, अचानक वजन कम होना, पेट में दर्द और पेट में परेशानी या सूजन शामिल हैं। रोग के अन्य लक्षणों में बेचैनी, अपच, मतली और उल्टी शामिल हैं, जो रक्त के साथ या बिना हो सकती हैं। थोड़ा सा खाना खाने के बाद अगर पेट भरा हुआ महसूस हो तो यह भी एक संकेत है। इसके अलावा हीमोग्लोबिन का कम होना भी कोलन कैंसर का संकेत हो सकता है।यह तुरंत नहीं बनता है बल्कि वर्षों में धीरे-धीरे विकसित होता है। यह गंभीर होने से पहले पेट की अंदरूनी परत में शुरू होता है। शुरुआत में कोई लक्षण नहीं होते हैं। यही कारण है कि यह ज्ञात नहीं है। कोलन कैंसर के कारण, लक्षण और परिणाम अलग-अलग हो सकते हैं। यह इस बात पर निर्भर करता है कि यह पेट के किस हिस्से से शुरू हुआ था।
शरीर में कैंसर तीन तरह से फैलता है। यदि यह ऊतक के माध्यम से फैलता है, तो कैंसर आस-पास के क्षेत्रों में बढऩे से फैल जाएगा। दूसरा, कैंसर आपके लसीका तंत्र में प्रवेश कर सकता है और वहीं से फैल सकता है जहां से यह शुरू हुआ था। एक बार वहां पहुंचने के बाद, यह आपके शरीर के अन्य हिस्सों में लसीका वाहिकाओं के माध्यम से यात्रा कर सकता है। तीसरा, यदि कैंसर रक्तप्रवाह से फैलता है, तो यह आपकी रक्त वाहिकाओं के माध्यम से शरीर के अन्य भागों में जा सकता है।
कोलन कैंसर के मुख्य जोखिम कारकों में से एक आपका खान-पान है। नमकीन, मसालेदार और तले हुए खाद्य पदार्थ पेट के कैंसर के खतरे को बढ़ा सकते हैं। इनके अलावा फलों और सब्जियों का कम सेवन भी इसके जोखिम से जुड़ा है। हालांकि, पेट में पुरानी जलन या सूजन, पेट की पिछली सर्जरी या बीमारी का पारिवारिक इतिहास भी शामिल है। गैस्ट्रोओसोफेगल रिफ्लक्स रोग, मोटापा और धूम्रपान भी गैस्ट्रिक कैंसर की संभावना को बढ़ा सकते हैं।
यदि आप अक्सर पेट में दर्द या सूजन महसूस करते हैं, तो आपको तुरंत जांच करवानी चाहिए। बहुत से लोग इन लक्षणों को नजरअंदाज कर देते हैं। वास्तव में, उचित जांच से ही इसका पता लगाया जा सकता है।
रंगीन फल और हरी सब्जियां खाने से कोलन कैंसर का खतरा कम हो सकता है। इसके अलावा साबुत अनाज जैसे साबुत अनाज की ब्रेड, अनाज, पास्ता और चावल को डाइट में शामिल करें। शराब और टमाटर उत्पादों से भी बचना चाहिए। मसालेदार भोजन, मांस और मछली से परहेज करना भी एक बेहतर उपाय है। धूम्रपान छोडऩे से कोलन कैंसर का खतरा भी कम हो सकता है।

डिस्केलमर- यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। अधिक जानकारी के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

Check Also

यूपी की इस दबंग महिला आईएएस को सरकार ने दिया मौका, तो अफसर ने बदल कर रख दी विभाग की सूरत

Getting your Trinity Audio player ready... लखनऊ, (माॅडर्न ब्यूरोक्रेसरी न्यूज)।। यूपी की आईएएस किंजल सिंह …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *