Breaking News

हथेली पर है ऐसा निशान तो भाग्य नहीं देता है साथ

भाग्य से जुड़े कई राज हाथ की रेखाओं में छिपे होते हैं। हथेली पर मौजूद विभिन्न रेखाएं और निशान शुभ और अशुभ संकेत देते हैं। आज हम आपको एक ऐसे निशान के बारे में बताएंगे जिसे हस्तरेखा विज्ञान की दुनिया में शनि की अंगूठी कहा जाता है। शनि वलय का क्या अर्थ है, हथेली पर कहां बना है यह वलय और क्या हैं इसके फल। इसके बारे में विस्तार से जानिए।

हाथ की मध्यमा अंगुली के ठीक नीचे शनि पर्वत को अर्धवृत्ताकार रूप में घेरने वाली रेखा को शनि का छल्ला कहते हैं। आमतौर पर हस्तरेखा शास्त्र में शनि की अंगूठी को अशुभ माना जाता है। जिन लोगों के हाथ में यह शनि की अंगूठी होती है, वे सुख और आनंदमय जीवन से वंचित रहते हैं। ऐसे लोग उदास स्वभाव के होते हैं।
जिन लोगों के हाथ में शनि की अंगूठी होती है, उन्हें जीवन में कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। मुश्किलें, चुनौतियाँ और निराशाएँ ऐसे लोगों का साथ कभी नहीं छोड़तीं। ऐसे लोगों की वाणी उनकी कार्यशैली से कभी मेल नहीं खाती। ये लोग बहुत ज्यादा बोलते हैं और बहुत कम काम करते हैं। यदि शनि की अंगूठी के साथ हाथ पर सिर की छोटी रेखा हो तो ऐसे लोग अकेले रहना पसंद करते हैं।
1. हथेली पर शनि वलय की बहुत स्पष्ट और गहरी रेखा यह दर्शाती है कि व्यक्ति बुद्धिमान है। ऐसे लोग बहुत ही शांत रहते हैं और अपने राज किसी से भी शेयर नहीं करते हैं। ये लोग दोस्तों और रिश्तेदारों से भी दूर रहते हैं। यह निशान आमतौर पर अपराधियों या आत्महत्या करने वालों की हथेली पर देखा जाता है।
2. यदि हथेली पर स्थित शनि वलय स्पष्ट या स्पष्ट न हो तो ऐसे लोग संचार में कमजोर और सनकी होते हैं। ये लोग अकेले रहना पसंद करते हैं इसलिए ये शादी करने से बचते हैं। साफ और गहरी लकीर वाले लोगों के विपरीत, ये लोग आत्महत्या और अपराध से दूर रहना पसंद करते हैं।
3. हथेली पर शनि वलय की रेखा टूटी हो तो चिंता की कोई बात नहीं है। ऐसे में यदि मस्तिष्क की रेखा और अंगूठा मजबूत हो तो व्यक्ति को परेशानी का सामना भी नहीं करना पड़ता है।
4. यदि शनि का वलय अर्धवृत्त के स्थान पर कांटे जैसा हो और मस्तिष्क की रेखा कमजोर हो अंगूठा कमजोर हो तो यह अशुभ संकेत होता है। ऐसे लोग निराश, निंदक और कम मिलनसार होते हैं। ये लोग जीवन में बड़ी सफलताओं से वंचित रहते हैं

(यहां दी गई जानकारी सामान्य धारणाओं और सूचनाओं पर आधारित है। हम इसकी पुष्टि नहीं करता है।)

Check Also

इस मंदिर में चलता है सोलह दिनों तक नवरात्र का त्यौहार

नई दिल्ली। शारदीय नवरात्र शुरू हो चुके हैं, पूरा भारत वर्ष के सनातन धर्मी मां …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *